तुलसीदास जी का जीवन परिचय | Biography of Tulsidas in Hindi

0
101

तुलसीदास जी का जीवन परिचय 

 Tulsidas Biography in Hindi

तुलसीदास साधारण रूप से गोस्वामी तुलसीदास के नाम से भी जाने जाते है। वे एक हिन्दू कवी-साधु, संशोधक और जगद्गुरु रामानंदाचार्य के कुल के रामानंदी सम्प्रदाय के दर्शनशास्त्री और भगवान श्री राम के भक्त थे।

तुलसीदास जी अपने मशहूर दोहों और कविताओ के लिये जाने जाते है और साथ ही अपने द्वारा लिखी महाकाव्य रामचरितमानस के लिये वे पुरे भारत में लोकप्रिय है। रामचरितमानस संस्कृत में रचित रामायण में राम के जीवन की देशी भाषा में की गयी अवधि है।

तुलसीदास जी का जीवन परिचय 

पूरा नाम – गोस्वामी तुलसीदास
जन्म – सवंत 1589
जन्मस्थान – राजापुर ( उत्तर प्रदेश )
पिता – आत्माराम
माता – हुलसी
शिक्षा – बचपन से ही वेद, पुराण एवं उपनिषदों की शिक्षा मिली थी।
विवाह – रत्नावली के साथ।

जन्म के समय इनके मुह में पुरे दांत थे, अंत मे अमंगलकारी मानकर माता पिता द्वारा नाता तोड़ दिये जाने के कारण संत नरहरिदास ने काशी में उनका पालन पोषण किया था। ऐसा कहा जाता है की रत्नावली के प्रेरणा से घर से आसक्तिरहित होकर तीर्थ के लिए निकल पडे और तन – मन से भगवान राम की भक्ति में मंत्र-मुग्ध हो गए। उनके द्वारा लिखा गया ‘रामचरितमानस’ हिंदू धर्म की रचना है और उसे घर – घर में आदर प्राप्त हुआ है।

तुलसीदास ने अपने जीवन और अपने कामो के बारे में बहुत कम जानकारी उपलब्ध करवाई है। बाद में 19 वी शताब्दी में प्राचीन भारतीय सूत्रों के अनुसार तुलसीदास के जीवन को भक्तामल में बताया गया था जिसकी रचना नाभादास ने की थी जिसमे उनके जीवनकाल को 1583 से 1639 के बीच बताया गया था।

इसके बाद 1712 में भक्तिकाल पर टिपण्णी करते हुए प्रियादास ने भक्तिरसबोधिनी की रचना की। नाभादास ने भी तुलसीदास पर टिपण्णी की थी और तुलसीदास पर उन्होंने 6 लाइन का एक छंद भी लिखा था, जिसमे उन्होंने तुलसीदास को वाल्मीकि का नया जन्म बताया था।

प्रियादास ने तुलसीदास की मौत के लगभग 100 साल बाद उनपर छंद लिखे थे और तुलसीदास के जीवन के अनुभवों को छंदों के उपाय से उजागर किया था। 1920 के समय में तुलसीदास की दो और प्राचीन जीवनी प्रकाशित की गयी जो मनुस्मृति पर आधारित थी।

तुलसीदास की तारीफ करते हुए लोग उन्हें वाल्मीकि का पुनर्जन्म कहते थे, जिन्होंने संस्कृत भाषा में वास्तविक रामायण की रचना की थी। इसके साथ ही उन्हें हनुमान चालीसा का रचयिता भी कहा जाता है, जो हनुमान पर आधारित एक भक्ति गीत है।

तुलसीदास ने अपने जीवन का अधिक समय वाराणसी में ही बिताया। गंगा नदी के किनारे पर बसे तुलसी घाट का नाम उन्ही के नाम पर रखा गया था। उन्होंने वाराणसी में संकटमोचन मंदिर की स्थापना की थी, जो हनुमान का ही मंदिर है, लोगो का मानना है की तुलसीदास ने उसी जगह पर भगवान हनुमान के वास्तविक दर्शन किये थे। तुलसीदास ने ही रामलीला के नाटको की शुरुवात की थी।

तुलसीदास को हिंदी, भारतीय और वैश्विक साहित्य का एक महान कवी कहा जाता है। तुलसीदास का और उनके कामो का प्रभाव हमें कला, संस्कृति और भारतीय समाज में दिखाई देता है, बहुत सी देसी भाषाओ, रामलीला के नाटको, हिन्दुस्तानी क्लासिकल संगीत, लोकप्रिय संगीत और टीवी कार्यक्रमों में हमें तुलसीदास की छवि और उनके कार्य का प्रभाव दिखाई देता है।

तुलसीदास जी का जन्म काल

महान कवि तुलसीदास की प्रतिभा-किरणों से न केवल हिन्दू समाज और भारत, बल्कि समस्त संसार आलोकित हो रहा है । बड़ा अफसोस है कि उसी कवि का जन्म-काल विवादों के अंधकार में पड़ा हुआ है। अब तक प्राप्त शोध-निष्कर्ष भी हमें निश्चितता प्रदान करने में असमर्थ दिखाई देते हैं। मूलगोसाईं-चरित के तथ्यों के आधार पर डा० पीताम्बर दत्त बड़थ्वाल और श्यामसुंदर दास तथा किसी जनश्रुति के आधार पर “मानसमयंक’ – कार भी १५५४ का ही समर्थन करते हैं। इसके पक्ष में मूल गोसाईं-चरित की निम्नांकित पंक्तियों का विशेष उल्लेख किया जाता है।

पंद्रह सै चौवन विषै, कालिंदी के तीर,
सावन सुक्ला सत्तमी, तुलसी धरेउ शरीर ।

तुलसीदास की जन्मभूमि

तुलसीदास की जन्मभूमि होने का गौरव पाने के लिए अब तक राजापुर (बांदा), सोरों (एटा), हाजीपुर (चित्रकूट के निकट), तथा तारी की ओर से प्रयास किए गए हैं। संत तुलसी साहिब के आत्मोल्लेखों, राजापुर के सरयूपारीण ब्राह्मणों को प्राप्त “मुआफी’ आदि बहिर्साक्ष्यों और अयोध्याकांड (मानस) के तायस प्रसंग, भगवान राम के वन गमन के क्रम में यमुना नदी से आगे बढ़ने पर व्यक्त कवि का भावावेश आदि अंतर्साक्ष्यों तथा तुलसी-साहित्य की भाषिक वृत्तियों के आधार पर रामबहोरे शुक्ल राजापुर को तुलसी की जन्मभूमि होना प्रमाणित हुआ है।

रामनरेश त्रिपाठी का निष्कर्ष है कि तुलसीदास का जन्म स्थान सोरों ही है। सोरों में तुलसीदास के स्थान का अवशेष, तुलसीदास के भाई नंददास के उत्तराधिकारी नरसिंह जी का मंदिर और वहां उनके उत्तराधिकारियों की विद्यमानता से त्रिपाठी और गुप्त जी के मत को परिपुष्ट करते हैं।

तुलसीदास जी के दोहे हिंदी अर्थ सहित

दोहा :- “दया धर्म का मूल है पाप मूल अभिमान, तुलसी दया न छोडिये जब तक घट में प्राण.
अर्थ :- तुलसीदास जी ने कहा की धर्म करुणा भावना से उत्पन्न होती और अहंकार तो केवल पाप को ही जन्म देता हैं, मनुष्य के शरीर में जब तक जान हैं तब तक करुणा भावना कभी नहीं छोड़नी चाहिए.

दोहा :- “सरनागत कहूँ जे तजहिं निज अनहित अनुमानि, ते नर पावॅर पापमय तिन्हहि बिलोकति हानि.”
अर्थ :- जो मनुष्य अत्यंत बुरा अपने अहित का अनुमान करके शरण में आये हुए का त्याग कर देते हैं वे क्षुद्र और पापमय होते हैं. दरअसल, उनको देखना भी उचित नहीं होता.

दोहा :- “तुलसी मीठे बचन ते सुख उपजत चहुँ और, बसीकरण इक मंत्र हैं परिहरु बचन कठोर.”
अर्थ :- तुलसीदासजी कहते हैं की मीठे वचन सब और सुख फैलाते हैं. किसी को भी अधीन में करने का ये एक मंत्र होते हैं इसलिए मानव ने कठोर वचन छोड़कर मीठे बोलने का प्रयास करे.

दोहा :- “सचिव बैद गुरु तीनि जौं प्रिय बोलहिं भय आस, राज धर्म तन तीनि कर होइ बेगिहीं नास.”
अर्थ :- तुलसीदास जी कहते हैं की मंत्री वैद्य और गुरु, ये तीन यदि भय या लाभ की आशा से प्रिय बोलते हैं तो राज्य, शरीर एवं धर्म इन तीन का शीघ्र ही नाश हो जाता हैं.

Leave your vote

0 points
Upvote Downvote

Total votes: 0

Upvotes: 0

Upvotes percentage: 0.000000%

Downvotes: 0

Downvotes percentage: 0.000000%

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here